Popular Posts

Pages

Search This Blog

Followers

Total Pageviews

Popular Posts

Follow by Email

Friday, December 24, 2010

गणित मैं एक नई खोज (दमदार अंक 9)



गणित मैं एक नई खोज (दमदार अंक 9)
दादरी के पियुश्दाद्रिवाला,दुनिया की पहली मिरर imaj पुस्तक "श्री मद भाग वाद गीता" के सभी १८ अद्द्ययो,७०० श्लोकों को हिंदी व् अंग्रेजी दोनों भाषाओं में लिख"वर्ल्ड रिकार्ड व् एशिया बुक आफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज करा कर एक इतिहास बना चुके पियुश्दाद्रिवाला ने अब एक और नया करना कर दिखाया हैं.दाद्रिवाला की अभी हाल ही में उनकी पुस्तक"गणित एक अध्यन" प्रकाशित हो चिकि हैं.जिसमें उन्होंने अपने दुवारा सिद्ध किये गए कई नई तरीके इजाद किये हैं. दाद्रिवाला यांत्रिक इंजीनिर और एक बहु रास्ट्रीय कम्पनी में कार्यरत हैं.पियूष ने पास्कल त्रिभुज पर कारिय किया और कई विशेस्ताये उस त्रिभुज के बारे में पता लगाई.पास्कल त्रिभुज,प्य्तागोरस परमे व् पिरामिड की सहायता से यह सत्यापित करने की कोसिस की हैं जो हम गिनती १ से लेकर ९ तक कर ते हैं वो गलत हैं,यह ० से लेकर ९ तक होनी चाहिए. दाद्रिवाला ने गिनतिय विधि से यह भी सिद्ध किया हैं की पिरामिड वाकई असीम उर्जा का स्थान हैं. दाद्रिवल ने एक महत्व पूरण खोज की हैं,"समकोण तिरभुज" में एक नया नाम "समान्तर श्रेणी समकोण तिरभुज" दिया हैं.जिसको उन्होंने तिन तरीको बीजगणित,त्रिकोंमिति,कोर्दिनत ज्योमित्री से सिद्ध किया हैं.पियूष ने अपनी पुस्तक में अंक ९ पर भी कार्य किया हैं.और उनका यह कहना हैं की यह दुनिया अंक ९ पर ही निर्भर हैं.इसको वो एइस्तिन के विशव प्रसिद सूत्र E=MC(स्कायर2) से जोड़ते हैं.(चूँकि c का मतलब परकास की चाल जो तिन गुना १० की घात ८ हैं जो क स्कायर के रूप में है,यानि ३ गुना १० की घात का स्कायर=९ गुना १० की घात १६,अब हम ९ की किसी भी संख्या से गुना करे तो उनके अलग -अलग अंको का योग ९ ही आता हैं). m द्रव्य मान से कितनी उर्जा उत्सर्जित होगी इसके लिए द्रव्य मान को परकाश के चाल के वर्ग से गुना करना होगा जो हमेशा ९ ही आएगा.अतः दुनिया अंक ९ पर ही निर्भर हैं.(९ ही देवियाँ हैं,९ ही grah हैं,और ९ ही पियूष नियतांक हैं.
उदाहरन के लिए हम यहाँ दो-दो अंको की दो राशियों लेते हैं-
२४ व् ३१ इनको हम ४ तरीकों से लिख सकते हैं जैसे-
२४ x ३१ =७४४
२४ x १३ = ३१२
४२ x ३१ = १३०२
४२ x १३ = ५४६
अब इन संखयों से क्रम से सभी छोटी संखयों को एक - एक करके घटाओ , प्राप्त संख्या होगी-
१३०२ - ७४४ = ५५८ = ५+ ५ + ८= १८ = १ + ८ = 9
१३०२ - ५४६ =७५६ = ७ + ५ + ६ = १८ = १ + ८ =९
१३०२ - ३१२ = ९९०= ९ + ९ + ० = १८ = १ + ८ = ९
७४४ - ५४६ = १९८ = १ + ९ + ८ = १८ = १ + ८ = ९
७४४ - ३१२ = ४३२ = ४ + ३ + २ = ९
५४६ - ३१२ = २३४ = २३४ = २ +३ + ४ = ९
के अलग - अलग अंको का योग हमेसा ९ ही आयेगा.यही "पियूष नियतांक" हैं.

Wednesday, December 22, 2010

sangra ke saukin piyushdadriwala

संग्रह के शोकिन पियूष दादरी वाला
दुनिया की पहली मिरर इमेज पुस्तक ''श्रीमद भगवद गीता'' वर्ल्ड रिकार्ड, एशिया बुक आफ रिकार्ड मैं दर्ज, दो प्रकाशित पुस्तकों ''गणित एक अध्यन'' व् ''इजी स्पलिंग'' के रचियेता यांत्रिक इंजिनियर पियुश्दाद्रिवाला संग्रह का भी शौक रखते है.उनके पास विभिन्न वस्तुऊ का संग्रह है,जो वो सन १९८२ से कर रहे है.जिनमे उनके पास दुर्लभ डाक टिकट ,सिक्को का संग्रह ,प्रथम दिवस आवरण,२५०० पैनो का संग्रह,माचिसो का संग्रह,सिगरत पैकेटो का संग्रह,भारतीय नोटों का संग्रह व् विभिन्न देशो के नोटों का संग्रह,व् विश्व प्रसिद हस्तियों के हस्ताक्षरों का संग्रह(अमिताभ,सचिन,रितिक,राजीव जी,अटल जी,लालकृषण अडवाणी,वि पि सिंह,चंद्सेखर,मनमोहन सिंह जी,राजेश पायलेट,माधव राज सिंधिया,मायावती जी,मुलायम सिंह ,राजबब्बर,कपिल देव,किरण बेदी आदि)हैं.दाद्रिवाला एस संग्रह को संग्रहालय के रूप में स्थापित कर रास्त्र को समर्पित करना चाहते हैं.

Sunday, December 5, 2010

PAINTING MY MOUSE"PIYUSHDADRIWALA"
















NEWS IN JAGGRAN CITY PLUS



JagranCityPlus / In Focus
Piyush Goel: 'Mirror Image Man' with multiple talents
Young Piyash Goel has a rare feat to his credit. He has written the world's first Shrimad Bhagwad Geeta in mirror image. Piyush says, "It is the first Bhagwad granth in the world written in mirror image. I wrote the epic in my own hand writing in two languages, Hindi and English. One can read all the 18 chapters and 700 verses in front of a mirror." The feat certainly shows the will power of a man who put everything readable in front of a mirror. He says, "Since my childhood I had a strong desire to copy everything in front of a mirror. Though I was not sure to achieve this uncommon art, yet I did it." He recalled how an accident had changed his life. I met with a serious accident in year 2000 and remained in bed for a long time. At that time I had developed this art, he reveals. A resident of Kaushambi, Piyush is now known as 'Mirror Image Man' and recently he was honoured with Holder Republic Award for this novel achievement.ABOUT PIYUSHHe is a mechanical engineer working in a private firm of Greater Noida, Dadri. Collecting unusual things is also his passion. He says, "I came in contact with a bank employee in the year 1982. He was a stamp collector. I was very fascinated by this habit and I started collecting various stamps and currencies of different countries." Later I started collecting match boxes, cigarette packets, pens, coins, currencies and autographs of celebrities, he adds. He has rare collection of autographs of great people like Indira Gandhi, Rajiv Gandhi, Sachin Tendulkar, Amitabh Bachan including several national and international personalities. About this particular habit he says, "I love to meet celebrities and collect their signatures. Though it is time consuming, for me it is like getting inspiration. Presently, he has a rich collection of various items. "Initially my family members used to get irritated by my habit since it is difficult to keep everything in a house. After seeing my craze and social recognition now my kids also help in preserving my collections". BODY OF WORKApart from Shrimad Bhagwad Geeta he has written Shree Durga Sapt Satti in Sanskrit language, Sunderkand, Arti Sangrah and Shree Sai Sachcharitra (all 51 chapters, 308 pages, more than one lakh words). He has written a book on Mathematics, which is a juggle for most of mathematicians. He informs, "I am very fond of Mathematics, I have done a lot of work on Mathematics, like Points Design of Pyramid and Equations, work on Pascal Triangle, A new triangle 'AP Right Angled Triangle' in which I have introduced a new strange Table and formula for two digits and Number Nine." It is very interesting way to understand the complications of Mathematics. The book is going to be published in the future," he adds.FUTURE PLANSSince his hand-written Bhagwad Geeta is to be adopted by Krishna museum of Kurukshetra University, he is feeling proud of the achievement. He accepts, "It is a fact that no one is going to read this holy book in front of a mirror but I have great satisfaction by writing an image of those great holy words and compiling them into a complete granth. I will continue with this writing and in the future write more holy books". "People often ask me what would I do with these strange collections. I simply prove my point by organizing several exhibitions in various schools of Ghaziabad and Noida. My works and collections are informative for students and I have received so many invitations from schools and museums. So far as awards are concerned I never do anything for the sake of any awards or remuneration. Though I have various recognitions and awards I don't like to mention them since I have a noble mission to preserve things for the future generation," he concludes. –Manoj Sinha

WHAT ALL GODS HAVE COMMON

WHAT ALL GODS HAVE COMMON
1 2 3 4 5 6 7 8 9
A B C D E F G H I
J K L M N O P Q R
S T U V W X Y Z


1. HINDU ( SHREE KRISHNA)
­ 1+8+9+5+5+2+9+9+1+8+­5+1=63=6+3=9
2. MUSLIM (MOHAMMED)
­ 4+6+8+1+4+4+5+4=36=3­+6=9
3. SHIK (GURU NANAK)
7+3+9+3+5+1+5+1+2=36­=3+6=9
4. PARSI (ZARA THUSTRA )
8+1+9+1+2+8+3+1+2+9+­1=45=4+5=9
5.BUDH (GAUTAM)
7+1+3+2+1+4=18=1+8=9­­
6.JAIN (MAHAVIR)
4+1+8+1+4+9+9=36=3+6­=9
7. ESAI (ESA MESSIAH)
5+1+1+4+5+1+1+9+1+8=­36=3+6=9
8. SAI NATH
1+1+9+5+1+2+8=27=2+7­=9

AT LAST BY CAHANCE WHEN I TRY TO CALCULATE MY NAME "PIYUSHDADARIWALA" AS PER THIS METHOD ,GOT NINE......BUT I AM NOT GOD.......BUTI BELIEVE,WITHOUT GOD ,I AM DOG
9. PIYUSHDADRIWALA
7+9+7+3+1+8+4+1+4+9+­9+5+1+3+1=72=7+2=9

I THINK YOU ALL ENJOY,I HAVE MORE,NEXT TIME
LOVE TO ALL
PIYUSHDADRIWALA
www.piyush-g.741.com­­­
www.piyushdadriwalam­aths.co.in

PIYUSH THOUGHTS

PIYUSH THOUGHTS
1.TO IMAGINE IS TO HAVE EVERYTHING.
2.A WISE THINKS BEFORE DOING,BUT A MAD.................­...........AFTER.
3.LOVE MAKES THE WAY TO GOD.
4.PRESENT IS PAST IN FUTURE.
5.GOD,BEFORE DYING YOU OURES,AFTER DYING WE YOURS.
6.TIME SAYS,TI-ght-ME, OTHERWISE GOING.
7.PAIN IS SURE IN GAIN.
8.WHO LOVES ALWAYS HATES.
9.WITHOUT GOD A MAN JUST REVERSE OF GOD.................­.......(DOG).
10.A MAN OF GOD BUT A MIND OF A MAN.
11.IN THIS WORLD THERE ARE LOT OF YESTERDAYS,NOT MANY TOMORROWS.
12.LUCK,A DUCK CAN SWIM,FLY AND WALK.
13.LUCK IS AS LOCK
YOU HAVE ITS KEY
CLICK LEFT,IT CLOSES.
CLICK RIGHT,IT OPENS. ­ (READ IT CAREFULLY,AND THINK)
14.MUCH TIME REQUIRED TO BE GOOD,TO BE BAD A LITTLE.
15.WE KNOW GOD,BUT GOD KNOWS US OR NOT WE DO NOT KNOW.
16.LOVE LAUGH AND LIVE LONG LIFE.
17.GOD IS ONE YOU ARE MANY.
18.LOVE IS "O" (+VE),DONATE IT.
19.LIFE IS MIRROR,YOUR WORKS ARE IMAGES.
20.LIFE IS HOUSEOF LOVE,CONFIDENCE,FAIT­H,SATISFACTION,DEVOT­ION,AMBITION,CHARACT­ER,HONESTY,SUCCESS AND POSITIVE ATTITUDE.
WITH LOT OF LOVE
PIYUSHDADRIWALA

world first mirror image book "shreemadbhagvadgita­" by piyushdadriwala

world first mirror image book "shreemadbhagvadgita­" by piyushdadriwala

MIRROR IMAGED BHAGVADGITA
I AM PIYUSH DADRIWLA,MECH ENGG,VERY CREATIVE ,HOBBY OF COLLECTION,BELIEVE IN GOD,I WROTE GITA IN MIRROR IMAGED BY MY OWN HAND IN TWO LANGUAGES HINDI AND ENGLISH,ALL18 CHAPTERS ,700 VERSES,MEANS WILL READ IT IN FRONT OF MIRROR AND HOPE IT IS WORLD FIRST EVER HAND WRITTEN MIRROR IMAGED( ANY BOOK) "SHREEMADBHAGVADGITA­".HOBBY OF COLLECTION LIKE 10,000 MATCH BOXES,300 CIGARETTE PACKETS,1045 PENS,COINS AND CURRENCIES,AUTOGRAPH­S LIKE AMITABH,SACHIP,RITIQ­UE,LATA,ATAL,RAJIV GANDHI,INDRA GANDHI,ANIL KUMBLE,1983 WEST INDIES CRICKET TEAM,AUSTRALIAN CRICKET TEAM INDIAN WOMEN CRICKET TEAM AND OF MANY PESONALITIES,NEWSPAP­ER AND MAGAZINES COLLECTION,HOBBY OF MAKING CARTOONS AND CARICATURES.
WITH LOT OF LOVE
PIYUSHDADRIWALA

Saturday, December 4, 2010

PIYUSH CONSTANT


अद्भुत नौ नंबर, (लगातार पीयूष).यह बहुत दिलचस्प है, यह मेरी अपनी खोज, भविष्य बहुत जल्द ही अपने गणित पर अपने स्वयं बुक मैथ्स प्रकाशित करेंगे --- एक अध्ययन (में हिन्दी) में मैं प्यार गणित, है, या वेबसाइट के रूप में हो सकता.अंकों की किसी भी संख्या में ले, यहाँ मैं 25 और 32 के ले जा रहा हूँ अब,तुम इस तरह चार तरह से उन्हें लिख सकते

हैं

25*32=800

25*23=575

52*23=1196

52*32=1664

अब बहुत अद्भुत, किसी भी कम करने के लिए एक के बाद एक बड़ा एक,

1664-1196 = 468 = 4 +6 +8 18 = 1 +8= 9

1664-575 = 1089 = 1 +0 +8 + 9= 18=1+8 =9

1664-800 =864= 8 +6 +4 = 18 = 1 +8=9

1196-800=396=3+9+6=18=1+8=9

1196-575=621=6+2+1=9

800-575=225=2+2+5=9


नौ हमेशा, किसी भी अंकों के लिए, नहीं, शरीर के सभी PIYUSHDADRIWALA के लिए आरक्षित कॉपी कर सकते हैं,

उल्‍टे अक्षरों से लिख दी भागवत गीता




उल्‍टे अक्षरों से लिख दी भागवत गीता:


मिरर इमेज शैली में कई किताब लिख चुके हैं पीयूष : आप इस भाषा कोदेखेंगे तो एकबारगी भौचक्‍क रह जायेंगे. आपको समझ में नहीं आयेगा कि यहकिताब किस भाषा शैली में लिखी हुई है. पर आप ज्‍यों ही शीशे के सामनेपहुंचेंगे तो यह किताब खुद-ब-खुद बोलने लगेगी. सारे अक्षर सीधे नजरआयेंगे. इस मिरर इमेज किताब को दादरी में रहने वाले पीयूष ने लिखा है. इसतरह के अनोखे लेखन में माहिर पीयूष की यह कला एशिया बुक ऑफ वर्ल्‍डरिकार्ड में भी दर्ज है. मिलनसार पीयूष मिरर इमेज की भाषा शैली में कईकिताबें लिख चुके हैं.उनकी पहली किताब भागवद गीता थी. जिसके सभी अठारह अध्‍यायों को इन्‍होंनेमिरर इमेज शैली में लिखा. इसके अलावा दुर्गा सप्‍त, सती छंद भी मिरर इमेजहिन्‍दी और अंग्रेजी में लिखा है. सुंदरकांड भी अवधी भाषा शैली में लिखाहै. संस्‍कृत में भी आरती संग्रह लिखा है. मिरर इमेज शैली मेंहिन्‍दी-अंग्रेजी और संस्‍कृत सभी पर पीयूष की बराबर पकड़ है. 10 फरवरी1967 में जन्‍में पीयूष बहुमुखी प्रतिभा के धनी हैं.डिप्‍लोमा इंजीनियर पीयूष को गणित में भी महारत हासिल है. इन्‍होंने बीजगणित को बेस बनाकर एक किताब 'गणित एक अध्‍ययन' भी लिखी है. जिसमेंउन्‍होंने पास्‍कल समीकरण पर एक नया समीकरण पेश किया है. पीयूष बतातेंहैं कि पास्‍कल एक अनोखा तथा संपूर्ण त्रिभुज है. इसके अलावा एपी अधिकारएगंल और कई तरह के प्रमेय शामिल हैं. पीयूष कार्टूनिस्‍ट भी हैं. उन्‍हेंकार्टून बनाने का भी बहुत शौक है.