Popular Posts

Pages

Search This Blog

Followers

Total Pageviews

Popular Posts

Follow by Email

Monday, August 15, 2011

उल्‍टे अक्षरों से लिख दी भागवत गीता

उल्‍टे अक्षरों से लिख दी भागवत गीता



मिरर इमेज शैली में कई किताब लिख चुके हैं पीयूष :
आप इस भाषा को देखेंगे तो एकबारगी भौचक्‍क रह जायेंगे. आपको समझ में नहीं आयेगा कि यह किताब किस भाषा शैली में लिखी हुई है. पर आप ज्‍यों ही शीशे के सामने पहुंचेंगे तो यह किताब खुद-ब-खुद बोलने लगेगी. सारे अक्षर सीधे नजर आयेंगे. इस मिरर इमेज किताब को दादरी में रहने वाले पीयूष ने लिखा है. इस तरह के अनोखे लेखन में माहिर पीयूष की यह कला एशिया बुक ऑफ वर्ल्‍ड रिकार्ड में भी दर्ज है. मिलनसार पीयूष मिरर इमेज की भाषा शैली में कई किताबें लिख चुके हैं.
उनकी पहली किताब भागवद गीता थी. जिसके सभी अठारह अध्‍यायों को इन्‍होंने मिरर इमेज शैली में लिखा. इसके अलावा दुर्गा सप्‍त, सती छंद भी मिरर इमेज हिन्‍दी और अंग्रेजी में लिखा है. सुंदरकांड भी अवधी भाषा शैली में लिखा है. संस्‍कृत में भी आरती संग्रह लिखा है. मिरर इमेज शैली में हिन्‍दी-अंग्रेजी और संस्‍कृत सभी पर पीयूष की बराबर पकड़ है. 10 फरवरी 1967 में जन्‍में पीयूष बहुमुखी प्रतिभा के धनी हैं।


डिप्‍लोमा इंजीनियर पीयूष को गणित में भी महारत हासिल है. इन्‍होंने बीज गणित को बेस बनाकर एक किताब 'गणित एक अध्‍ययन' भी लिखी है. जिसमें उन्‍होंने पास्‍कल समीकरण पर एक नया समीकरण पेश किया है. पीयूष बतातें हैं कि पास्‍कल एक अनोखा तथा संपूर्ण त्रिभुज है. इसके अलावा एपी अधिकार एगंल और कई तरह के प्रमेय शामिल हैं. पीयूष कार्टूनिस्‍ट भी हैं. उन्‍हें कार्टून बनाने का भी बहुत शौक है।
http://naiqalam.blogspot.com/2010/11/blog-post_29.html

Sunday, May 8, 2011

Monday, March 14, 2011

उल्‍टे अक्षरों से लिख दी भागवत गीता:




उल्‍टे अक्षरों से लिख दी भागवत गीता:



मिरर इमेज शैली में कई किताब लिख चुके हैं पीयूष : आप इस भाषा कोदेखेंगे
तो एकबारगी भौचक्‍क रह जायेंगे. आपको समझ में नहीं आयेगा कि यहकिताब किस
भाषा शैली में लिखी हुई है. पर आप ज्‍यों ही शीशे के सामनेपहुंचेंगे तो
यह किताब खुद-ब-खुद बोलने लगेगी. सारे अक्षर सीधे नजरआयेंगे. इस मिरर
इमेज किताब को दादरी में रहने वाले पीयूष ने लिखा है. इसतरह के अनोखे
लेखन में माहिर पीयूष की यह कला एशिया बुक ऑफ वर्ल्‍डरिकार्ड में भी दर्ज
है. मिलनसार पीयूष मिरर इमेज की भाषा शैली में कईकिताबें लिख चुके
हैं.उनकी पहली किताब भागवद गीता थी. जिसके सभी अठारह अध्‍यायों को
इन्‍होंनेमिरर इमेज शैली में लिखा. इसके अलावा दुर्गा सप्‍त, सती छंद भी
मिरर इमेजहिन्‍दी और अंग्रेजी में लिखा है. सुंदरकांड भी अवधी भाषा शैली
में लिखाहै. संस्‍कृत में भी आरती संग्रह लिखा है. मिरर इमेज शैली
मेंहिन्‍दी-अंग्रेजी और संस्‍कृत सभी पर पीयूष की बराबर पकड़ है. 10
फरवरी1967 में जन्‍में पीयूष बहुमुखी प्रतिभा के धनी हैं.डिप्‍लोमा
इंजीनियर पीयूष को गणित में भी महारत हासिल है. इन्‍होंने बीजगणित को बेस
बनाकर एक किताब 'गणित एक अध्‍ययन' भी लिखी है. जिसमेंउन्‍होंने पास्‍कल
समीकरण पर एक नया समीकरण पेश किया है. पीयूष बतातेंहैं कि पास्‍कल एक
अनोखा तथा संपूर्ण त्रिभुज है. इसके अलावा एपी अधिकारएगंल और कई तरह के
प्रमेय शामिल हैं. पीयूष कार्टूनिस्‍ट भी हैं. उन्‍हेंकार्टून बनाने का
भी बहुत शौक है.

Friday, March 11, 2011

inspiration thoughts of piyushdadriwala

1.Zero in left no mean,Zero in right,a lot mean,so do right..
2.The whole world "say" and "say" ,few do ,and one win.
3.Patience and Passion,count the fishes.
4.Life is not foot ball,some one comes and kick off for own goal.
5.Smiles goes miles,but who feels tired while smiling,smiles miles away from.
6.There is a wall between success and failure,now your turn which side you jump.
7.There is only relation between Man and Money ,that is Relation.
8.As a point helps draw a big circle,so do small thing with Big thinkin a great way.
9.In life opportunities like a cone in the begging lot you have,and atthe end only a point of end.
10.The way you think ,the road you get.

Sunday, January 23, 2011

दाद्रिवाला ने "निडिल लिखावट" में लिखी मधुशाला







दाद्रिवाला ने "निडिल लिखावट" में लिखी मधुशालायानि पर्ने के लिए अब शीशे की जरुरत नहीं परेगी , दुनीया की पहली मिरर इमेज granth"श्रीमद्भागवद्गीता" लिख रिकार्ड होल्डर,एशियन रिकार्ड होल्डर, ग्लोबल रिकार्ड होल्डर,कार्तोनिस्ट गणित में एक नयी परमे व् "पियूष नियतांक" की खोज कर ने वाले ,दो पुस्तक"गणित एक अध्यन" व् "एअस्स्य स्पेल्लिंग" लिखने वाले पियुश्दाद्रिवाला ने एक और नया कार्य कीया हैं.अक्सर लोग पियूष को ये पुचा करते थे की आप की पुस्तक पर्ने के लिए सीसे की जरुरत परेगी हैं,बहुत सोच ने के बाद दाद्रिवाला को एक युक्ती मन में आई kyun न एक पुस्तक को नीडिल से लिखा जाएँ सो उन्होंने मधुशाला को नीडिल की सहायता से लिख डाला और एक नया विश्व प्रसिद काम हो गया.

Friday, December 24, 2010

गणित मैं एक नई खोज (दमदार अंक 9)



गणित मैं एक नई खोज (दमदार अंक 9)
दादरी के पियुश्दाद्रिवाला,दुनिया की पहली मिरर imaj पुस्तक "श्री मद भाग वाद गीता" के सभी १८ अद्द्ययो,७०० श्लोकों को हिंदी व् अंग्रेजी दोनों भाषाओं में लिख"वर्ल्ड रिकार्ड व् एशिया बुक आफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज करा कर एक इतिहास बना चुके पियुश्दाद्रिवाला ने अब एक और नया करना कर दिखाया हैं.दाद्रिवाला की अभी हाल ही में उनकी पुस्तक"गणित एक अध्यन" प्रकाशित हो चिकि हैं.जिसमें उन्होंने अपने दुवारा सिद्ध किये गए कई नई तरीके इजाद किये हैं. दाद्रिवाला यांत्रिक इंजीनिर और एक बहु रास्ट्रीय कम्पनी में कार्यरत हैं.पियूष ने पास्कल त्रिभुज पर कारिय किया और कई विशेस्ताये उस त्रिभुज के बारे में पता लगाई.पास्कल त्रिभुज,प्य्तागोरस परमे व् पिरामिड की सहायता से यह सत्यापित करने की कोसिस की हैं जो हम गिनती १ से लेकर ९ तक कर ते हैं वो गलत हैं,यह ० से लेकर ९ तक होनी चाहिए. दाद्रिवाला ने गिनतिय विधि से यह भी सिद्ध किया हैं की पिरामिड वाकई असीम उर्जा का स्थान हैं. दाद्रिवल ने एक महत्व पूरण खोज की हैं,"समकोण तिरभुज" में एक नया नाम "समान्तर श्रेणी समकोण तिरभुज" दिया हैं.जिसको उन्होंने तिन तरीको बीजगणित,त्रिकोंमिति,कोर्दिनत ज्योमित्री से सिद्ध किया हैं.पियूष ने अपनी पुस्तक में अंक ९ पर भी कार्य किया हैं.और उनका यह कहना हैं की यह दुनिया अंक ९ पर ही निर्भर हैं.इसको वो एइस्तिन के विशव प्रसिद सूत्र E=MC(स्कायर2) से जोड़ते हैं.(चूँकि c का मतलब परकास की चाल जो तिन गुना १० की घात ८ हैं जो क स्कायर के रूप में है,यानि ३ गुना १० की घात का स्कायर=९ गुना १० की घात १६,अब हम ९ की किसी भी संख्या से गुना करे तो उनके अलग -अलग अंको का योग ९ ही आता हैं). m द्रव्य मान से कितनी उर्जा उत्सर्जित होगी इसके लिए द्रव्य मान को परकाश के चाल के वर्ग से गुना करना होगा जो हमेशा ९ ही आएगा.अतः दुनिया अंक ९ पर ही निर्भर हैं.(९ ही देवियाँ हैं,९ ही grah हैं,और ९ ही पियूष नियतांक हैं.
उदाहरन के लिए हम यहाँ दो-दो अंको की दो राशियों लेते हैं-
२४ व् ३१ इनको हम ४ तरीकों से लिख सकते हैं जैसे-
२४ x ३१ =७४४
२४ x १३ = ३१२
४२ x ३१ = १३०२
४२ x १३ = ५४६
अब इन संखयों से क्रम से सभी छोटी संखयों को एक - एक करके घटाओ , प्राप्त संख्या होगी-
१३०२ - ७४४ = ५५८ = ५+ ५ + ८= १८ = १ + ८ = 9
१३०२ - ५४६ =७५६ = ७ + ५ + ६ = १८ = १ + ८ =९
१३०२ - ३१२ = ९९०= ९ + ९ + ० = १८ = १ + ८ = ९
७४४ - ५४६ = १९८ = १ + ९ + ८ = १८ = १ + ८ = ९
७४४ - ३१२ = ४३२ = ४ + ३ + २ = ९
५४६ - ३१२ = २३४ = २३४ = २ +३ + ४ = ९
के अलग - अलग अंको का योग हमेसा ९ ही आयेगा.यही "पियूष नियतांक" हैं.

Wednesday, December 22, 2010

sangra ke saukin piyushdadriwala

संग्रह के शोकिन पियूष दादरी वाला
दुनिया की पहली मिरर इमेज पुस्तक ''श्रीमद भगवद गीता'' वर्ल्ड रिकार्ड, एशिया बुक आफ रिकार्ड मैं दर्ज, दो प्रकाशित पुस्तकों ''गणित एक अध्यन'' व् ''इजी स्पलिंग'' के रचियेता यांत्रिक इंजिनियर पियुश्दाद्रिवाला संग्रह का भी शौक रखते है.उनके पास विभिन्न वस्तुऊ का संग्रह है,जो वो सन १९८२ से कर रहे है.जिनमे उनके पास दुर्लभ डाक टिकट ,सिक्को का संग्रह ,प्रथम दिवस आवरण,२५०० पैनो का संग्रह,माचिसो का संग्रह,सिगरत पैकेटो का संग्रह,भारतीय नोटों का संग्रह व् विभिन्न देशो के नोटों का संग्रह,व् विश्व प्रसिद हस्तियों के हस्ताक्षरों का संग्रह(अमिताभ,सचिन,रितिक,राजीव जी,अटल जी,लालकृषण अडवाणी,वि पि सिंह,चंद्सेखर,मनमोहन सिंह जी,राजेश पायलेट,माधव राज सिंधिया,मायावती जी,मुलायम सिंह ,राजबब्बर,कपिल देव,किरण बेदी आदि)हैं.दाद्रिवाला एस संग्रह को संग्रहालय के रूप में स्थापित कर रास्त्र को समर्पित करना चाहते हैं.